शनिवार, 26 मार्च 2011

hindi hindu hindustan

हिंदी हिन्दू हिंदुस्तान इन तीनो का कही न मन
होता इनका नित अपमान हिंदी हिन्दू हिंदुस्तान
हिंदी वाले मार हैं खाते जगह जगह हैं इसे सताते
अंगेरजी के चरण चुमते हिंदी के परदे फट जाते
अपने ही घर में बेगानी हिंदी की नहीं कोई शान
हिन्दू की भी अजब कहानी सभी जगह हैं आना कानी
इस नाम से सभी कतराते फिरका परस्त इसे बतलाते
छिपाते सभी अपनी पहचान हिन्दू धरम का नहीं अभिमान
हिंदुस्तान हैं नाम ही खोटा धमकाता हर छोटा मोटा
दुनिया सारी में पिटता हैं अपने घर में भी लुटता हैं
निकल गए सारे अरमान हिंदी हिन्दू हिंदुस्तान

1 टिप्पणी:

  1. अच्छी रचना

    एक निवेदन:
    कृप्या वर्ड वेरीफीकेशन हटा लें
    वर्ड वेरीफिकेशन हटाने के लिए:
    डैशबोर्ड>सेटिंग्स>कमेन्टस>
    Show word verification for
    comments?>
    इसमें ’नो’ का विकल्प चुन लें.
    बस हो गया..
    कितना सरल है न हटाना और उतना ही मुश्किल
    इसे भरना!! यकीन मानिये!!.

    उत्तर देंहटाएं